Spread the love


ग्वालियर. केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया (Jyotiraditya Scindia) के बेटे महाआर्यमन मैदान में उतर आएं हैं. सियासी डगर पर निकले महाआर्यमन का पहला फोकस युवाओं पर है. यही वजह है कि उन्होंने ग्वालियर में टॉपर छात्रों के साथ संवाद किया. 3 घंटे के  संवाद कार्यक्रम में महाआर्यमन (Mahaaryaman) ने छात्र छात्राओं से उनकी जिंदगी, परिवार, पढ़ाई, पर्सनल स्किल्स और रुचि पर दिल खोलकर बात की. उसके बाद छात्र-छात्राओं के सवालों का जवाब दिया.

सिंधिया राज परिवार की चौथी पीढ़ी के रूप में महाआर्यमन भी मैदान में उतर आएं हैं. बुधवार को महा आर्यमन ने 26 वां जन्मदिन सार्वजनिक रूप से मनाकर इसकी शुरुआत कर दी है. उसके बाद अब गुरुवार को वो स्कूली छात्र छात्राओं से संवाद कार्यक्रम के जरिए रूबरू हुए. इसमें ग्वालियर के 35 स्कूलों के 10 वीं और 12 वीं के 100 टॉपर छात्र छात्राएं शामिल हुए. ये सभी 16 से 18 साल की उम्र के थे.

पहले प्यार का इंतजार
छात्रों से संवाद में महाआर्यमन ने छात्र छात्राओं से मज़ेदार और गंभीर बातें कीं. महाआर्यमन ने कहा यही वो स्टेज है जो आपकी पूरी ज़िंदगी को शेप देगी. कई चीज़ों का आपको इंतज़ार होगा. आपका पहला प्यार होगा, आपकी गर्ल फ्रेंड या बॉयफ्रेंड होगा. आपकी पहली ट्रॉफी आएगी, अवॉर्ड आएगा. कई चीज़ें इस फेज में आपकी जिंदगी में आएंगी. लेकिन आप बेहतर करने के लिए मंथन करें.  महाआर्यमन ने छात्र छात्राओं से कहा पहले वह खुद का आंकलन करें. अपनी रुचियों को जानें और उसके बाद जिसमें बेहतर कर पाएं वह क्षेत्र चुनें.

ये भी पढ़ें-महाआर्यमन सिंधिया ने जय विलास पैलेस में तलवार से काटे केक, राजनीति में एंट्री पर दिया बड़ा बयान

सहजता के कायल हुए छात्र छात्राएं
छात्र छात्राओं ने महाआर्यमन से मजेदार सवाल किए. 12 वीं की छात्रा रिद्धि ने महाआर्यमन से पूछा कि आप किस क्षेत्र में जाना चाहते हैं. इस पर महाआर्यमन ने बताया कि अमेरिका में पढ़ाई करने के बाद वो अब ग्वालियर में बस गए हैं. उनके घर में रात के वक्त ज्यादातर राजनीति की ही चर्चा होती है. लिहाज़ा मैंने अपने पिता से राजनीति को समझा और राजनीतिक घटनाक्रम को देखा है. राजनीति मेरे लिए नई और कठिन नहीं है. आर्यमन ने कहा राजनीति सेवा का माध्यम है, इसके जरिए मैं जनता की सेवा करना चाहता हूं. इसके अलावा छात्रों ने करियर, तनाव कम करना, विदेश में पढ़ाई के सिलसिले में सवाल किए. महाआर्यमन सिंधिया के जवाब सुनकर उनके कायल हो गए.

युवाओं पर फोकस 
26 साल के महाआर्यमन अपनी लांचिंग के बाद मैदान में उतर आए हैं. वो फिलहाल सियासत के लिए अपनी जमीन तैयार कर रहे हैं. छात्र छात्राओं से रूबरू होकर महाआर्यमन युवा वर्ग में पैठ मजबूत करने में जुटे हैं. आने वाले दिनों में महाआर्यमन ग्वालियर चंबल अंचल में पिता की सियासी विरासत को संभालेंगे. उन्होंने कहा पहले वो लोगों से रूबरू हो रहे हैं, सबको समझने के बाद मैं राजनीति में आऊंगा.

मास्क हटाने की गुजारिश पर बोले- महाराज की डांट नहीं सुनना
संवाद कार्यक्रम के दौरान छात्र-छात्राओं ने महाआर्यमन के साथ सेल्फी लेने की गुजारिश की, जो उन्होंने मान ली. जीवाजी क्लब के पदाधिकारियों ने महाआर्यमन का स्वागत किया. उनके साथ पदाधिकारियों ने फ़ोटो खिंचवाए. इस दौरान कुछ पदाधिकारियों ने महाआर्यमन से मास्क उतारने की गुजारिश की तो उन्होंने इंकार कर दिया. साथ ही मजाकिया लहज़े में कहा मुझे बिना मास्क फोटो खिंचवा कर महाराज (ज्योतिरादित्य सिंधिया) की डांट नही सुनना है भाई.

आपके शहर से (ग्वालियर)

उत्तर प्रदेश

उत्तर प्रदेश

Tags: Gwalior news, Jyotiraditya Scindia, Madhya pradesh latest news, Students





Source link


Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published.