Spread the love


हाइलाइट्स

  • अपनी हरी आंखों से पूरी दुनिया को दीवाना बनाने वाली अफगान लड़की को बड़ी राहत मिली
  • नैशनल जियोग्राफिक के कवर पेज पर छपने वाली शरबत गुला को इटली ने सुरक्षित पनाह दी है
  • शरबत तालिबानी आतंकियों से बचने के लिए छिपकर अफगान‍िस्‍तान से निकल गई थीं

काबुल/बॉन
अपनी हरी आंखों से पूरी दुनिया को दीवाना बनाने वाली अफगान लड़की तालिबान की क्रूरता से बड़ी राहत मिल गई है। साल 1985 में नैशनल जियोग्राफिक के कवर पेज पर छपने वाली शरबत गुला को इटली ने सुरक्षित पनाह दे दी है। शरबत तालिबानी आतंकियों से बचने के लिए छिपकर अफगान‍िस्‍तान से निकल गई थीं। पाकिस्‍तान के एक शरणार्थी शिविर में रह रहीं शरबत मात्र 12 साल की उम्र में उस समय अफगान युद्ध का चेहरा बन गई थीं, जब उनकी हरी आंखों वाली तस्‍वीर मैगजीन में छपी थी।

इसके कुछ साल बाद शरबत को पाकिस्‍तान में वर्ष 2016 में अरेस्‍ट कर लिया गया था। शरबत पर आरोप लगा था कि वह देश में फर्जी दस्‍तावेजों के आधार पर रह रही थीं। इसके बाद उन्‍हें दोबारा युद्धग्रस्‍त अफगानिस्‍तान भेज दिया गया था। शरबत के 4 बच्‍चे हैं और उनके पति का निधन हो गया है। इटली सरकार ने गुरुवार को बताया कि शरबत को तालिबान के कब्‍जे के बाद अफगानिस्‍तान से सुरक्षित निकाल लिया गया है।


पाकिस्‍तान की जेल में 15 दिन गुजार चुकी हैं शरबत
प्रधानमंत्री के कार्यालय ने बताया कि इटली ने शरबत को निकालने के लिए प्‍लान बनाया। शरबत से इटली से शरण देने की अपील की थी। इटली सरकार अब उन्‍हें देश में रहने के लिए जरूरी सुविधाएं और अन्‍य चीजें देगी। साथ ही उन्‍हें इटली के समाज में रहने का तरीका भी बताएगी। शरबत गुल्‍ला को उस समय ख्‍याति मिली थी जब साल 1984 में फोटोग्राफर स्‍टीव मैककरी ने उनकी तस्‍वीर खींची थी। उनकी चमकदार हरी आंखों वाली तस्‍वीर नैशनल जियोग्राफिक में प्रकाशित हुई थी।

उस समय अमेरिकी खुफिया एजेंसी एफबीआई ने उनकी पहचान की थी। साल 2014 में वह दोबारा सामने आई थीं लेकिन जब अधिकारियों ने आरोप लगाया कि वह फर्जी पाकिस्‍तानी पहचान हासिल करना चाहती हैं तो बाद में शरबत छिप गईं। शरबत ने पढ़ाई नहीं की है और उनकी उम्र अब 40 के आसपास पहुंच गई है। वह पाकिस्‍तान की जेल में 15 दिन गुजार चुकी हैं। उन पर 110,000 रुपये का जुर्माना भी लगा था।



Source link


Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *